Breaking News

सामूहिक विवाह योजना के तहत सरकारी धन का दुरुपयोग करनें बालों के विरुद्ध होगी कार्यवाही

गौतम बुद्ध नगर- सामूहिक विवाह योजना के तहत सरकारी धन का दुरुपयोग करने वाले लाभार्थियों के शस्त्र लाइसेंस एवं चरित्र प्रमाण पत्र की एडीएम प्रशासन जांच करेंगे। जानकारी के अनुसार…

मिल सकता है शिक्षामित्रों को जीवनदान?

यूपी में सर्व शिक्षा अभियान के अंतर्गत ग्रामीण/नगरीय क्षेत्र में रखे गये संविदा कर्मचारी के बारे में सरकार ने अभी तक फैसला नही लिया इन लोगो के लिए कोई कार्य…

पिछले 3 साल में गई 7 लाख नौकरियां! बढ गयी बेरोजगारों की संख्या

लखनऊ- जहां एक ओर केंद्र सरकार खादी उद्योग को बढ़ावा देने की बात कह रही है, वहीं दूसरी ओर इस क्षेत्र में पिछले 3 साल में 7 लाख नौकरियां जाने…

यूपी में है फर्जी शिक्षकों की भरमार

लखनऊ- उत्तर प्रदेश में फर्जी शिक्षकों की भरमार हो गयीं है। वर्तमान सरकार ने अभी तक शिक्षको को भर्ती नही किया है। जानकारी के अनुसार पूर्व में भर्ती फर्जी शिक्षक…

शर्मनाक करतूत: घायल युवक के कटे पैर को बनाया तकिया

झांसी। महारानी लक्ष्मीबाई मेडिकल कॉलेज में डॉक्टरों द्वारा मरीजों की जिंदगी से खिलवाड़ करना और उपचार में लापरवाही बरतना कोई कोई नया मामला नहीं है। आज भी चिकित्सकों ने लापरवाही…

जिला कारागार अपराधियों की ऐश-गाह! खुलेआम चला रहे मोबाइल

मुजफ्फरनगर- जिला कारागार में बंद अपराधी खुलेआम सोशल मीडिया पर जेल से अपने फ़ोटो अपलोड कर रहें है।इससे साफ जाहिर है कि अपराधियों के पास मोबाइल की सुविधा है जो…

खुलासा! एयरटेल कंपनी के बैंक में स्वतः ही खुल जाते हैं ग्राहकों के खाते

एयरटेल कम्पनी की बैक में ग्राहकों के खाते अपने आप खुल जाते है। भारतीय रिजर्व बैंक ने परिचालन दिशानिर्देश और अपने ग्राहक को जानो (केवाईसी) नियमों का उल्लंघन करने के…

क्या शिक्षामित्र ही पैरा टीचर है?

पैराटीचर ही शिक्षामित्र है इसका मतलब जानते है क्या हुआ सुप्रीम कोर्ट का ऑर्डर 25 जुलाई 2017 आप पर लागू हुआ।पैराटीचर शिक्षामित्रो की नियुक्ति राज्य सरकार की योजना से हुई…

12 मार्च 2018 को प्रस्तावित 68500 सहायक अध्यापक भर्ती की लिखित परीक्षा स्थगित

इलाहाबाद- परिषदीय प्राथमिक स्कूलों में 68500 शिक्षकों की भर्ती के लिए 12 मार्च को होने वाली लिखित परीक्षा स्थगित कर दी गई है। श्रीमती सुत्ता सिंह सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकरण…

खुलासा!फर्जी मदरसों पर खर्च करती थी सरकार 100 करोड़

लखनऊ- वेब पोर्टल पर पंजीयन अनिवार्य किये जाने के बाद ‘फर्जी‘ पाये गये दो हजार से ज्यादा मान्यता प्राप्त मदरसों पर सालाना 100 करोड़ रुपये से ज्यादा खर्च किये जाते…

error: Content is protected !!