पत्नी से अवैध संबंधो को लेकर होमगार्ड ने कर दी भाई की हत्या

आजमगढ़- आज़मगढ़ में अपनी पत्नी से अवैध संबंध को लेकर एक होमगार्ड ने अपने रिश्ते में भाई की हत्या कर दी थी। भाई प्रधान का चुनाव लड़ा था तो गाँव की रंजिश के चलते निर्दोष 4 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ था। खास बात थी कि करीब सवा वर्ष पूर्व हुई इस हत्या में पुलिस ने नामजद एक को जेल भेज दिया था जबकि फरार तीन निर्दोषों के घर पर कुर्की की भी कार्रवाई कर दी थी। एसपी ने बताया 10 जून 2018 में हत्या के बाद से ही जांच में पुलिस को असली मुजरिम किसी और के होने का अंदेशा हो रहा था लेकिन सच आने में इतने दिन लग गए और हत्यारा भी ऐसा कि जो पुलिस के साथ रहने वाला होमगार्ड। पुलिस ने उसके कब्जे से हत्या में इस्तेमाल होने वाले तमंचे को बरामद किया है। आरोपी ने कबूल किया कि उसको उसकी बेटी से अवैध संबंध की जानकारी मिली। तभी से उसने हत्या की साजिश रचनी शुरु कर दी। घटना के दिन दोस्त को इधर उधर घुमाया शराब पिलाई और फिर गोली मार कर दूसरे पर आरोप लगाकर सूचना दी। एसपी ने बताया 11-06-2018 को मुकदमे के वादी महेन्द्र मिश्रा पुत्र स्व रामसुभग मिश्रा निवासी ग्राम खरैला थाना गम्भीरपुर ने थाना गम्भीरपुर पर सूचना दिया कि 10-06-2018 को रात्रि करीब 9 बजे वह व उनका लड़का रामकृष्ण मिश्रा बिन्द्रा बाजार से अपने घर जा रहे थे कि रोहुआ मुस्तफाबाद तिराहे पर उनके छोटे भाई बनबिहारी पुत्र रामसुभग व धर्मेन्द्र मिश्रा पुत्र फौजदार मिश्रा निवासीगण ग्राम खरैला थाना गम्भीरपुर मिले । उन्हे देखकर घर चलने को कहा और अपनी.अपनी मोटरसाइकिलो से चल दिये बनबिहारी आगे थे जिसे धर्मेन्द्र मिश्रा मोटरसाइकिल चला रहे थे । मेरी मोटरसाइकिल को मेरा लड़का चला रहा था लगभग 700 मीटर जाने के बाद रामसुभग यादव के विद्यालय के पास पहुचा कि पुरानी रंजिश व मुकदमेंबाजी के कारण दो मोटरसाइकिलो पर सवार बृजभूषण उर्फ मिन्टू पुत्र राजपत मिश्रा, त्रिपुरारी मिश्रा पुत्र रामनाथ, प्रमोद मिश्रा पुत्र त्रिपुरारी मिश्रा व संतोष मिश्रा पुत्र त्रिपुरारी मिश्रा अपने हाथो में असलहा लेकर आ गये और त्रिपुरारी मिश्रा के ललकारने पर संतोष मिश्रा असलहे से गोली मारकर भाई बनबिहारी मिश्रा की हत्या कर दी । मेरे शोर करने पर मेरे ऊपर जान से मारने की नियत से फायर करते हुए खरैला की तरफ भाग गये । इस सूचना पर थाना गम्भीरपुर पर मुकदमा पंजीकृत हुआ । मुकदमा उपरोक्त की विवेचना से धर्मेन्द्र मिश्रा पुलिस के सामने गवाही देने से बचने लगा व घर से फरार हो गया । साक्ष्य संकलन व विवेचना से पुलिस को ये पूर्ण विश्वास हो गया कि घटना धर्मेन्द्र मिश्रा के द्वारा ही की गयी है इस घटना को गम्भीरता से लेते हुए पुलिस अधीक्षक के द्वारा विवेचना को क्राइम ब्रान्च प्रभारी संजय सिंह को स्थानान्तरित कर घटना में शामिल अभियुक्त की गिरफ्तारी शीध्र करने हेतु पुलिस अधीक्षक नगर पंकज कुमार पाण्डेय व क्षेत्राधिकारी सदर मो0 अकमल को टीम गठित कर तत्काल गिरफ्तारी करने हेतु निर्देशित किया गया था । इस क्रम में आज संजय सिंह प्रभारी क्राइम ब्रान्च व प्रभारी निरीक्षक गम्भीरपुर विजय प्रताप सिंह मय हमराह पुलिस बल के साथ मुखबिर की सूचना मिली कि अभियुक्त धर्मेन्द्र मिश्रा सैनिक ढाबा निकट फरिहा तिराहा पर मौजूद है जो कही भागने की फिराक में है इस सूचना पर पुलिस के द्वारा धर्मेन्द्र मिश्रा को 9 बजे प्रातः गिरफ्तार किया गया । जिसकी तलाशी से एक तमंचा 315 बोर व एक जिन्दा कारतूस 315 बोर बरामद हुआ। पूछताछ पर अभियुक्त ने अपना जुर्म इकबाल करते हुए बताया कि बनबिहारी मिश्रा मेरे घर के पड़ोस में रहते है और रिश्ते में मेरे भाई लगते है उनकी नजर मेरी पत्नी पर थी और मेरी गैरमौजूदगी में मेरे घर आते जाते थे जिनसे मेरी पत्नी संगीता मिश्रा से अवैध सम्बन्ध था । घटना के कुछ दिन पहले मेरी लड़की रिमझिम ने दोनो को आपत्ति जनक अवस्था में देख लिया था और मुझसे सारी बात बतायी । तो मैने अपनी पत्नी से पूछताछ किया तो पहले उसके द्वारा मना किया गया लेकिन जब मैने उसको दो चाटा मारा तो मेरी पत्नी ने सही.सही बात बता दिया । उसी दिन से मै बनबिहारी खत्म करने का मौका खोजने लगा घटना के दिन मौका पाकर मैने बनबिहारी को पहले शराब पिलाया और सुन सान जगह रोहुआ के आगे पेशाब करके उठते वक्त पास से गोली मारकर उसकी हत्या कर दी तथा गोली लगने की बात मैने मृतक के घर वालो को बताकर फरार हो गया ।आज मेरे पास से बरामद तमंचा वही तमंचा है जिससे मैने बनबिहारी मिश्रा की दिनांक 10जून 2018 को गोली मारकर हत्या कर दी थी ।

रिपोर्टर:-राकेश वर्मा आजमगढ़

Leave a Reply

%d bloggers like this: