बन्धन बैंक एजेन्ट को गोली मारकर लूटने में शामिल तीन लोग गिरफ्तार: लूट के 1 लाख 15 हजार बरामद

वाराणसी- जनपद में हो रही लूट की घटनाओं के खुलासा के लिए एसएसपी वाराणसी आंनद कुलकर्णी द्वारा पुलिस अधीक्षक अपराध ज्ञानेन्द्र नाथ प्रसाद, पुलिस अधीक्षक ग्रामीण मार्तण्ड प्रताप सिंह व क्षेत्राधिकारी पिण्डरा अनिल राय के नेतृत्व में प्रभारी क्राइम ब्रांच व थानाध्यक्ष चौबेपुर की पुलिस टीम गठित की गयी। उक्त टीम द्वारा आज घटना में शामिल तीनो अभियुक्तों विक्रांत, जयपाल और जितेन्द्र को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त हुई है।
बतादे की आज भगतुआ तिराहे पर क्राइम ब्रांच व चौबेपुर पुलिस बल के साथ क्षेत्र में थे कि मुखबिर से सूचना मिली की चौबेपुर थानान्तर्गत अम्बा गांव में हुई लूट में शामिल बदमाश किसी घटना को अन्जाम देने के लिये बलुआ पुल होते हुए जाल्हुपुर आ रहे है, इस सूचना पर पुलिस बल द्वारा बलुआ पुल के पास घेराबन्दी कर चेकिंग की जा रही थी कि बलुआ की तरफ से एक बाइक पर सवार तीन व्यक्ति आते हुए दिखाई दिये, जिन्हें रोकने का प्रयास किया गया तो पुलिस को देख गाड़ी मोडकर भागने का प्रयास किये कि पुलिस द्वारा पकड़ लिया गया। पकड़े गये अभियुक्तों से नाम पता पूछने पर एक ने अपना नाम विक्रांत चौधरी उर्फ आशु, जयपाल यादव उर्फ डिम्पल और जितेन्द्र यादव उर्फ डिम्पल बताये जिनके कब्जे से 02 तमंचा 315 बोर व कारतूस, लूट का 1 लाख 15 हजार 650 रूपये, कलेक्शन मशीन(पॉस मशीन), घटना में प्रयुक्त मोटर साइकिल व दो मोबाइल फोन बरामद हुआ।
गिरफ्तार अभियुक्तो से पूछताछ के दौरान अभियुक्त जयपाल उर्फ डिम्पल द्वारा बताया गया कि पहले मेरे घर वाले भी बन्धन बैंक से लोन लिये थे मुझे जानकारी हो गयी थी कि कितना पैसा एक दिन में जमा होता है। बैंक के कलेक्शन एजेन्ट हमारे गांव व आस-पास के गांवों से काफी पैसा इकट्ठा करते थे इसकी जानकारी मेरे द्वारा विधिवत कर ली गयी थी। जानकारी के बाद मैं अपने मौसेरे भाई जितेन्द्र उर्फ डिम्पल व उसके दोस्त विक्रांत के साथ मिलकर लूट की योजना बनायी गयी । योजनानुसार 07 अगस्त को हम तीनों लोग इकट्ठा हुए और मुझे कलेक्शन एजेन्ट के निकलने पर सूचना देने का काम दिया गया तथा विक्रांत का गाड़ी चलाने व जितेन्द्र का पैसा छीनने का काम दिया गया। योजनानुसार विक्रात व जितेन्द्र गाड़ी से अम्बा छितौना तिराहे के पास भगतुआ लिंक रोड पर खड़े थे जहां से छितौना की तरफ से आने वाले दूर से ही दिखाई देते थे। कलेक्शन एजेन्ट के निकलने पर मेरे द्वारा फोन से सूचना दिया गया। सूचना देकर मैं अपने घर वापस चला गया था। विक्रांत व जितेन्द्र को तेजी से मोटरसाइकिल से जितेन्द्र के घर की तरफ भागते हुए देखा। कुछ देर बाद गांव वालों के माध्यम से पता चला कि बैंक एजेन्ट को गोली मारकर पैसा लूट लिया गया। पूछताछ में जितेन्द्र द्वारा बताया गया कि मैं लोडेड तमंचा लेकर पीछे बैठा था गाड़ी विक्रांत चला रहा था जयपाल द्वारा सूचना मिली कि बैंक एजेन्ट हम लोगो की तरफ आ रहा है तो हमलोग तेजी से आगे बढ़े और अमरूद के बाग के पास बैंक एजेन्ट को रोकते ही गोली मारकर बैग छीनकर रमचन्दीपुर की तरफ भागे। रास्ते में खेत में मशीन फेक दिये तथा पैसा निकालकर बैग नदी में फेक दिये। पैसा बांटने का समय नही मिल पाया था। पुलिस द्वारा रोज अम्बा व छितौना व आसपास के गांव के लोगों से पूछताछ किया जा रहा था हम लोग काफी डरे हुए थे। आज खर्च से बचे पैसे को बांटने व दूसरी घटना की योजना बनाने के लिए इकट्ठा हो रहे थे कि आप लोगों द्वारा पकड़ लिया गया।
अभियुक्तों को गिरफ्तार करने वाली पुलिस टीम में
क्राइम ब्रान्च प्रभारी विक्रम सिंह, उ0नि0 प्रदीप यादव, हे0का0 सुमन्त सिंह, हे0का0 पुनदेव सिंह व
थाना प्रभारी चौबेपुर
मनोज कुमार थानाध्यक्ष चौबेपुर, उ0नि0 पंकज सिंह, उ0नि0 धनन्जय राय सहित चौबेपुर पुलिस शामिल है।

रिपोर्टर:-महेश पाण्डेय

Leave a Reply

%d bloggers like this: