*चलते-चलते मेरे ये गीत याद रखना कभी अलविदा ना कहना

*37 वर्षों से आदित्य बिड़ला समूह से जुड़े रहे

सोनभद्र/रेणुकूट- आदित्य बिड़ला समूह की बिड़ला कार्बन इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के दक्षिण एशिया मध्य पूर्व के प्रमुख को आवासीय परिसर में भव्य आयोजन के साथ विदाई समारोह मनाया गया। 37 वर्षों से अधिक बिड़ला समूह से जुड़े बिड़ला कार्बन के दक्षिण एशिया मध्य पूर्व प्रमुख श्याम सुंदर राठी के सेवानिवृत्त होने के उपरांत रेणुकूट में स्थित हाईटेक कार्बन स्टाफ कॉलोनी के प्रेक्षागृह में रंगारंग कार्यक्रम का आयोजन कर उन्हें विदाई दी गई। सुबह प्लांट के लर्निंग सेंटर हाल में रिजनल प्रेसिडेंट को रेणुकूट इकाई प्रमुख जेपीएन सिंह ने पुष्प गुच्छ भेंट कर स्वागत किया। तत्पश्चात कंपनी के अधिकारियों, कर्मचारियों ने पुष्प गुच्छ एवं माल्यार्पण किया। इस दौरान सभी सहकर्मियों ने रिजनल प्रेसिडेंट के साथ बिताए अनुभवों व कार्यो को साझा किया। कर्मचारियों ने एक स्वर में एसएस राठी के व्यक्तित्व की तारीफ की। कर्मियों ने कहा कि उन्होंने कभी भी किसी के साथ भेदभाव नहीं किया। जब तक यहां रहे तब तक सभी कर्मियों की हर संभव मदद की। इनके सरल स्वभाव का नतीजा रहा कि प्रत्येक कर्मी को इनसे किसी भी समय मिलने की इजाजत थी। सबके सुख-दुख में शामिल होना इनके सरल स्वभाव और उत्कृष्ट व्यक्तित्व को दर्शाता है। इनसे मिलकर कभी छोटे बड़े का एहसास नही हुआ। एक योग्य अभिभावक की तरह किया गया बर्ताव कार्बन परिवार नहीं भूल पाएगा। इसके बाद एडमिनिस्ट्रेशन बिल्डिंग के सामने रीजनल हेड ने स्मृति वृक्ष के रूप में पौधरोपण किया। शाम को एसएस राठी और उनकी पत्नी श्रीमती उमा राठी के सम्मान में कॉलोनी परिसर के प्रेक्षागृह में भव्य रंगारंग कार्यक्रम का आयोजन हुआ जिसमें कॉलोनी की महिलाओं एवं बच्चों ने विभिन्न क्षेत्रीय लोक संस्कृतियों पर आधारित नृत्य और गीत प्रस्तुत किया। मिक्स फेयरवेल नृत्य में कॉलोनी की महिलाओं की प्रस्तुति को देख रिजनल प्रेसिडेंट और उनकी पत्नी भावुक हो उठे। पर्यावरण दिवस पर हुए पेंटिंग प्रतियोगिता के प्रतिभागियों को रीजनल प्रेसिडेंट ने पुरस्कार प्रदान किया। इससे पूर्व सुरभि महिला मंडल की अध्यक्षा श्रीमती वंदना सिंह की अगुवाई में महिला मंडल की सदस्यों ने श्रीमती उमा राठी को पुष्प गुच्छ एवं स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया। श्याम सुंदर राठी ने अपने उद्बोधन में कहा कि यहां आने के पूर्व मैं कंपनी के कार्यों से अक्सर आया जाया करता था। 37 वर्षों से रेणुकूट से मेरा नाता रहा है लेकिन 1991 में जब मेरी पोस्टिंग बिड़ला कार्बन रेणुकूट इकाई में हुई तब से मैं यहीं से जुड़ गया। अपने कार्यकाल में साथी कर्मियों की हर संभव मदद करने की कोशिश की। जब कभी भी मैंने अपने कर्मचारी या सहकर्मी को गुस्से में डांटा भी तो वह निजी न होकर कंपनी या कर्मचारी के हित में ही रहा। सभी साथियों ने अपना तन मन लगाकर कार्य किया जिस कारण मैं यहां तक पहुंच पाया। आप सभी के सहयोग को मैं जीवन पर्यंत नहीं भूलूंगा। जिस तरह से बिड़ला कार्बन को बढ़ाने में आप लोगों ने मेरा सहयोग किया उसी तरह से आगे भी करते रहिए यही आशा करता हूं। समापन उद्बोधन में इकाई प्रमुख जेपीएन सिंह ने कहा कि एसएस राठी एक अच्छे बॉस होने के साथ ही एक कुशल अभिभावक की तरह हम लोगों को सिखाते समझाते रहे। आज जो भी मैं हूं उसमें राठी सर का बहुत बड़ा योगदान है। मेरे व्यक्तित्व और सोच में बदलाव इनके मार्गदर्शन के कारण ही हो पाया। कार्यक्रम का संचालन राम कुमार शर्मा व ज्योति ने किया। इस दौरान एचआर हेड जयंत सिंह, रमेश पांडेय, विजय अग्रवाल, राकेश वशिष्ठ, उपेंद्र मिश्रा, राजकुमारी, अल्का श्रीवास्तव, अंजली झा, निवेदिता मुखर्जी सहित कंपनी के अधिकारी व कर्मचारी मौजूद रहे।

रिपोर्ट:-सर्वेश सिंह सोनभद्र

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!