रामपुर- समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता व पूर्व कैबिनेट मंत्री आजम खान के जौहर विश्वविद्यालय के उर्दू गेट को बुधवार सुबह प्रशासन ने धराशायी कर दिया। बता दें कि लोकसभा चुनाव से ठीक पहले सपा के कद्दावर नेता द्वारा बनाये गए उर्दू गेट को गिराया गया है। फतेहपुर में अपनी छाप छोड़ने के बाद डीएम आञ्जनेय कुमार सिंह रामपुर पर में चालू किया सुधार जिला का कार्य शुरू किया है। प्रशासन इसको लेकर काफी समय से तैयारी कर रहा था। सरकार ने पहले ही उर्दू गेट को गैर कानूनी और मानदंडों का उल्लंघन बताया था।
-40 लाख में बना था गेट:-
समाजवादी पार्टी के यूपी की सत्ता में काबिज होने के दौरान जौहर विश्वविद्यालय का उर्दू गेट बना था, जिसे बनवाने में सरकार ने 40 लाख रुपए खर्च किये थे।* बता दें कि गेट से रामपुर जिले को उत्तराखंड़ से जोड़ने वाली रोड पर भारी वाहनों के लिए रुकावट पैदा करता था। इसकी शिकायत के बाद योगी सरकार ने जिला मजिस्ट्रेट को इसके निर्माण की जांच के आदेश दिए थे। उर्दू गेट रामपुर जिले को उत्तराखंड और जौहर यूनिवर्सिटी से जोड़ने वाली रोड पर बना है। जिसे मौलाना मौहम्मद अली यूनिवर्सिटी रोड नाम दिया गया है।
आजम खान के राजनैतिक प्रतिद्वंदी पूर्व विधायक नवाब काजिम अली खान, बीजेपी नेता आकाश कुमार सक्सेना और कांग्रेसी नेता फैसल लाला कई बार उर्दू गेट के खिलाफ पहले भी कई बार शिकायतें योगी सरकार से कर चुके थे। जिसके बाद भी सरकार ने उर्दू गेट पर जांच बैठा दी और जांच परिणाम के आधार पर गेट को गिराने के निर्देश दिए।जिला प्रशासन ने आदेश मुताबिक़ बुधवार को उर्दू गेट को गिरा दिया। इस मौके पर भारी पुलिस फ़ोर्स भी तैनात की गयी।
डीएम आंजनेय कुमार सिंह ने बताया कि इस गेट को सीएनडीएस ने विधायक निधि से बनाया था। इसे बनाने में किसी भी नियम का पालन नहीं किया गया। अगर किसी रोड पर स्पीड ब्रेकर भी बनाया जाता है तो इसके लिए जिला प्रशासन की अनुमति लेना जरूरी होता है लेकिन इस गेट को बनाने में कोई इजाजत नहीं ली गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!